Connect with us

Hi, what are you looking for?

नीति

फर्जी साइन विवाद के बाद सतपाल महाराज पर अभद्र टिप्पणी का मामला, डॉक्टर निलंबित 

सतपुली स्थित सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के डॉक्टर का वीडियो वायरल होने के बाद हुई कार्रवाई

देहरादून। उत्तराखंड के हैवीवेट आंके जाने वाले कैबिनेट मंत्री सतपाल महाराज और अफसरशाही के बीच छत्तीस का आंकड़ा बना रहता है। बीते दिनों उन्होंने पीडब्ल्यूडी के एचओडी नियुक्ति में पीएस के खिलाफ फर्जी साइन करने का मुकदमा दर्ज कराया था। अब एक डॉक्टर को उनके खिलाफ अभद्र टिप्पणी के मामले में निलंबित किया गया है। इसकी जानकारी खुद सतपाल महाराज के मीडिया सलाहकार ने प्रेस रिलीज जारी कर दी। 

कैबिनेट मंत्री सतपाल महाराज के विरुद्ध अभद्र भाषा का प्रयोग करने और नशे की हालत में मरीजों और तिमारदार से बदसलूकी के मामले में सतपुली स्थित सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के चिकित्सा अधिकारी डॉ. शिवकुमार को स्वास्थ्य सचिव आर. राजेश कुमार ने तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया है। सतपुली सतपाल महाराज के विधानसभा क्षेत्र चौबट्टाखाल ही में पड़ता है। 

गत 19 दिसंबर को देर रात एक मरीज को 108 एंबुलेंस से उपचार के लिए सतपुली सीएचसी लाया गया था। आरोप है कि चिकित्सा अधिकारी डॉ. शिवकुमार उस समय नशे की हालत में थे। जब उनसे मरीज का इलाज करने को कहा तो वह तामीरदारों के साथ बदसलूकी करने लगे। मरीज के साथ आए लोगों ने सतपाल सतपाल से शिकायत करने की बात कही थी, तो डॉ. शिवकुमार ने महाराज के बारे में भी अपमानजनक बातें कहीं। इस घटना का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल होने के बाद डॉक्टर को निलंबित कर दिया गया।

मिली जानकारी के मुताबिक, घटना का वीडियो वायरल होने के बाद यह मामला स्वास्थ्य मंत्री डॉ. धन सिंह रावत के संज्ञान में आया और उन्हाेंने सचिव स्वास्थ्य को कार्रवाई के निर्देश दिए थे। स्वास्थ्य महानिदेशक की जांच में आरोपों की पुष्टि होने के बाद स्वास्थ्य सचिव आर. राजेश कुमार ने डॉ. शिवकुमार को निलंबित कर दिया।

संबंधित पोस्ट

विचार

खटीमा में हार के बावजूद पुष्कर सिंह धामी मार्च में दूसरी बार मुख्यमंत्री बनकर मुद्दर का सिकंदर कहलाए, लेकिन इसके तत्काल बाद अप्रैल में...

नीति

जोशीमठ आपदा के वक्त देश और प्रदेश के पर्यावरण मंत्री कहां हैं? उठ रहे हैं सवाल

समाचार

भर्ती परीक्षाओं में धांधली रोकने के दावे ध्वस्त, पेपर लीक के बाद पटवारी परीक्षा निरस्त

संघर्ष

मुआवजे और पुनर्वास से पहले ध्वस्तीकरण को लेकर आलोचनाओं से घिरी धामी सरकार