Connect with us

Hi, what are you looking for?

समाचार

बारिश-बर्फबारी से उत्तराखंड में जनजीवन ठप, चुनाव कार्यक्रम पर उठे सवाल

उत्तराखंड में भारी बारिश और बर्फबारी से कई इलाकों में आवाजाही मुश्किल, चुनाव प्रचार की चुनौती बढ़ी

उत्तराखंड में विकास योजनाओं के प्रभाव का आकलन किए बिना आगे बढ़ने की गलती को बार-बार दोहराया जा रहा है।

उत्तराखंड में कल से विभिन्न इलाकों में भारी बारिश और बर्फबारी हो रही है। मौसम ने अचानक करवट ली है और ठंड काफी बढ़ गई है। मौसम विभाग ने राज्य के नौ जिलों में भारी बारिश और बर्फबारी का अलर्ट जारी किया था। मौसम विभाग की भविष्यवाणी सही निकली है। ऐसे में 14 फरवरी को चुनाव कराने के चुनाव आयोग के फैसले पर सवाल उठ रहे हैं। क्योंकि भारी बारिश और बर्फबारी के चलते उम्मीदवारों के लिए लोगों तक पहुंचना मुश्किल हो गया है।

कोविड प्रोटोकॉल की पाबंदियों के बाद अब मौसम का मिजाज बिगड़ने से चुनाव अभियान की राह मुश्किल हो गई है। आमतौर पर उत्तराखंड के पर्वतीय इलाकों में फरवरी के महीने में बर्फबारी होती है। लेकिन इस साल ज्यादा बर्फबारी हो रही है जिसके कारण कई जगह रास्ते बंद हो गए हैं। बारिश-बर्फबारी के कारण 62 से ज्यादा सड़कों पर यातायात ठप हो गया है। प्रदेश भर में 15 पोलिंग पार्टियां बर्फबारी में फंस गई जिन्हें गंतव्य तक पहुंचाने में खासी मशक्कत करनी पड़ी।

उत्तराखंड के चकराता, मसूरी, नैनीताल सहित कई इलाकों में भारी बारिश के साथ ओलावृष्टि भी हुई। इससे पर्वतीय क्षेत्रों में भूस्खलन का खतरा बढ़ गया है और आवाजाही मुश्किल हो गई है। एसडीआरएफ की टीमों को राहत-बचाव के मद्देनजर तैनात किया गया है। पीडब्ल्यूडी सड़कों से बर्फ हटाकर रास्ते खुलवाने में जुटा है।

कल से लगातार बारिश और बर्फबारी के कारण उत्तराखंड के ऊंचाई वाले इलाकों में जनजीवन ठप हो गया है। रात के समय ऊंचाई वाले इलाकों में तापमान शून्य के आसपास पहुंच गया। भाकपा-माले के नेता और कर्णप्रयाग से वाम मोर्चा के उम्मीदवार इंद्रेश मैखुरी ने ट्वीट कर ऐसे मौसम में चुनाव कराने के फैसले पर सवाल उठाया है।

देहरादून के जिलाधिकारी डाॅ. आर. राजेश कुमार ने मौसम विभाग द्वारा जारी चेतावनी के दृष्टिगत ऊंचाई वाले क्षेत्रों विशेषकर मसूरी व चकराता जहां पर बर्फबारी होने की सम्भावना है, लोगों से अपने लिए खाद्य सामग्री और दैनिक उपयोग के सामानों को संरक्षित करने का अनुरोध किया है।

कुमाऊं मंडल के कमिश्नर दीपक रावत ने भी लोगों को अलर्ट किया। उन्होंने एक वीडियो जारी करते हुए कहा कि भारी हिमपात और बरसात के चलते मार्ग अवरुध हो सकते है इसलिए अपने घरों में राशन की व्यवस्था कर लें। बर्फबारी की वजह से कर्णप्रयाग-नैनीताल हाईवे दिवालीखाल क्षेत्र में दस किमी तक बंद हो गया जबकि त्यूणी-चकराता, चकराता-लाखामंडल मार्ग बंद से स्थानीय लोगों को मुश्किलें उठानी पड़ीं। सीमावर्ती इलाकों में रास्ते खुलवाने में बीआरओ को काफी मशक्कत करनी पड़ रही है।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

संबंधित पोस्ट

समाचार

धामी मंत्रिमंडल में तीन नए चेहरे, पांच पुराने मंत्रियों को मौका, तीन पद खाली

समाचार

उत्तराखंड में कांग्रेस की हार के लिए जिन नेताओं को जिम्मेदार माना जा रहा है, पार्टी ने हार की समीक्षा का जिम्मा उन्हीें को...

समाचार

पुष्कर सिंह धामी को दोबारा मुख्यमंत्री बनाकर भाजपा ने उत्तराखंड पर उपचुनाव का बोझ डाल दिया है।

पड़ताल

आर्मी सेंटर का वीडियो वायरल होने के बाद अब कांग्रेस ने सर्विस मतदाताओं को जारी पोस्टल बैलेट से फर्जी मतदान का आरोप लगाया